आइतबार, मंसिर १४ २०७७
काठमाडौं ०७:०९
वासिङटन डिसी 20:24

वेरहमी हो गए हमारे बढे भाई।।

इनेप्लिज २०७२ असोज ११ गते ३:५४ मा प्रकाशित

 

 

in office (2)रक्षा करो हे शीरीडीके साई।

वेरहमी हो गए हमारे बढे भाई।।

चुल्हा वंद करवाके घर जलाते है।

हमारे जिनेकी नियम वह वताते है।।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

=

प्रतिक्रिया